Global Reach - Regional Flavour

  • Published in 110 + countries
  • Books in 10+ languages

भीतर का आकाश Hindi Edition

By Sri Sri Ravi Shankar Hindi

द्वन्द से रहित मन ध्यान है,
कर्तमान क्षण में स्थित मन ध्यान है,
दुकिधारहित मन ध्यान है,
अपने स्रोत में स्थापित मन ध्यान है।
- गुरुदेव श्री श्री रविशंकर

Buy Now
Register Now